geet vrindavan

स्वप्न में राधा पडी दिखाई

पुलक उठ मनमोहन जैसे फिर खोयी निधि पायी

 

सम्मुख वही गौर मुख सुन्दर

कानों में था वही मधुर स्वर

वही गंध अलकों की उड़कर

साँसों में लहरायी

 

राधा ने झुक चरण छू लिया

फिर उनपर सिन्दूर धर दिया

मुड़कर अश्रु बहाती दुखिया

गयी जिधर से आयी

 

हरि करतल पर चिबुक टेककर

लगे सिसकने स्वप्न देखकर

तारे डूबे एक-एककर

नभ में लाली छायी

 

स्वप्न में राधा पडी दिखाई

पुलक उठ मनमोहन जैसे फिर खोयी निधि पायी