nao sindhu mein chhodi

कौन आता है सपना बन के

निद्रा के पथ से स्मृतियों के नव वसन पहन के

 

रूप कि ज्यों मोती में पानी

नयनों में पीड़ा अनजानी

कहता है अनकही कहानी

द्वार खोल कर मन के

 

तार छेड़  देता वीणा के

राग न जाने कहाँ कहाँ के

पा न सका जिनको पा-पा के

भाव लिये उस क्षण के

 

कौन आता है सपना बन के

निद्रा के पथ से स्मृतियों के नव वसन पहन के