nao sindhu mein chhodi

मुझे तो लहर बना रहने दो

हे असीम! मुझको अपनी ही सीमा में बहने दो

 

संध्या-ऊषा के आलिंगन

मधुर पवन के झोंके क्षण-क्षण

झड़, झंझा, पवि-पाहन-वर्षंण

सब निज पर सहने दो

 

यदि तुममें लय हो जाऊंगा

फिर यह तीर कहाँ पाऊंगा!

मैं तो यहीं कुटी छाऊँगा

ढहती हो, ढहने दो

 

जग का यह लीलाधर न्यारा

क्या,यदि मुझको लगता प्यारा!

जड़ माया का इसे पसारा

संतों को कहने दो

 

मुझे तो लहर बना रहने दो

हे असीम! मुझको अपनी ही सीमा में बहने दो