nao sindhu mein chhodi

यह तो शीशमहल है

रंग- बिरंगे शीशों की ही इसमें चहल-पहल है

 

शीशे के हैं सारे प्राणी

भवन, बगीचे, राजा-रानी

सब पर है सोने का पानी

करता जो झलमल है

 

शीशा है आँखों को ठगता

मन को सौ रंगों से रँगता

छोटा, बड़ा, जहाँ जो लगता

शीशे का ही छल है

 

फिरता जग छवि से भरमाया

इस माया को समझ न पाया

इस झिलमिल शीशे की छाया

स्थिर भी, चिर-चंचल है

 

यह तो शीशमहल है

रंग-बिरंगे शीशों की ही इसमें चहल-पहल है