geet vrindavan

‘चलो, सब चले द्वारिका मिलकर
बोला एक गोप वृन्दावन में जा-जाकर घर-घर

किसका मान! आन अब कैसी
अब तो दशा हुई है वैसी
जल में थी गजेन्द्र की जैसी

आये प्राण अधर पर

चलो सभी आगे कर गायें
नन्द-यशोदा दायें-बायें
राधा को भी आज मनायें

निकले घर के बाहर

‘चलो, सब चले द्वारिका मिलकर
बोला एक गोप वृन्दावन में जा-जाकर घर-घर