kach devyani

मैं क्या उत्तर दूँ! जीवन में जिसने यह आग लगायी है
जब वही अपरिचित-सा पूछे–‘यह लाली कैसी छायी है?’

सुन जिसको सोने की मछली मौक्तिक-गृह के बाहर निकले
सूर्यास्त-जलधि-वेला पर निज प्रतिध्वनि से विस्मित नाविक-से

तुम पूछ रहे मुझसे जो वह पूछो इन दुखिया आँखों से
श्यामल भ्रू-शर से बिँध उड़ती तितली की दोनों पाँखों से

देखा था पहली बार तुम्हें जब मैंने लतिका-अंचल से
अकलंक कलानिधि-से उठते धुलकर नभगंगा के जल से

श्रद्धा की नतशिर  भेंट लिये कोमल कुसुमों के दोने में
नि:श्वास सुधा-धारा भरते निर्जन के कोने-कोने में

बन कमल लहरियों में अपना स्मितिमय प्रतिबिम्ब खिलाते-से
पूनो के विस्मित जलधर-से ऊषा से नयन मिलाते-से

उस दिन ये चंचल आँखें ही मन को ले अपने साथ उड़ीं
अनुनय-मनुहारें  की लाखों मन की ममता ने, पर न मुडीं

जब तुम खोये-से रहते थे वट-तरु-सम्मुख व्रत-साधन में
मैं तितली-सी मँड़राती थी उस तपोभूमि के प्रांगण में

मैं अपने कोमल सपनों का संसार सजाती थी तुमसे
नव पारिजात की माला-से जो उतरे थे कल्पद्रुम से

तुम ऐसे विद्यालीन रहे, पुस्तक से आगे बढ़ न सके
पढ़ लिए शास्त्र-इतिहास सभी, नारी के मन को पढ़ न सके

मैं कर सोलह श्रृंगार चली, नभ के तारों ने टोक दिया
जब-जब आकुलता मचल पडी, तब-तब लज्जा ने रोक दिया

कल देख विदा का आयोजन मन और उपेक्षा सह न सका
आँसू में डूबी आँखों में अभिमान रूप का रह न सका

सागर से मिलने भादों की मदभरी नदी-सी बढ़ आयी
मैं नील जलद-प्राचीरों से बिजली-सी बाहर कढ़ आयी

तुम बालारुण से प्रात चले जाओगे, लज्जा जडी हुई
मैं ऊषा-सी उदयाचल पर चुपचाप रहूँगी खड़ी हुई

कर पार चुके होगे द्रुत-पद तुम किरणों के कंचन-झरने
मैं लुटी पुजारिन संध्या-सी जब आऊँगी पूजा करने

अनसुनी पिकी की तान सदृश जब निर्जन में लहराऊँगी
मेरे प्रसूनधारी वसंत, मैं तुम्हें कहाँ फिर पाऊँगी’
……………………………