kitne jivan kitni baar

राग नहीं जाता है

मुँह का रंग उड़े पर मन का फाग नहीं जाता है

 

माना, कातर नयन फिराकर

लीन हुई तुम, तम में सत्वर

सुनता हूँ मैं पायल के स्वर

प्रिये! तुम्हारा वह पहला अनुराग नहीं जाता है

 

काल-सरित सब कुछ ले बहता

भीगी पलकों से कुछ कहता

पर जो सतत चमकता रहता

मेरी स्मृति से वह आँसू का दाग नहीं जाता है

राग नहीं जाता है

मुँह का रंग उड़े पर मन का फाग नहीं जाता है