nao sindhu mein chhodi

जब ये जीवन फिर पायेंगे 

कभी कहीं तो चलते चलते पथ पर मिल जायेंगे

 

पलकें झुका फेर मुँह लोगी

देखा अनदेखा कर दोगी

या मन में कुछ हलचल होगी

लोचन भर आयेंगे

 

जैसे कोई याद पुरानी

जाग उठेगी पीर अजानी

क्या न प्रेम की यही कहानी

फिर से दोहरायेंगे

 

अथवा किसी अजान देश में

समवय समरूचि भिन्न वेश में

लिए ह्रदय में प्रीति शेष में

केवल पछतायेंगे

 

जब ये जीवन फिर पायेंगे

कभी कहीं तो चलते चलते पथ पर मिल जायेंगे