sab kuchh krishnarpanam

सब कुछ कृष्णार्पणम्, सब कुछ कृष्णार्पणम्

 

ज्ञान-ध्यान, शक्ति-श्रम

राग-द्वेष, मोह-भ्रम

दाह दीनता अहम्

सब कुछ कृष्णार्पणम्

 

भोग-योग, यम-नियम

श्रेय-प्रेय, प्रेयतम

लाभ-हानि, सम-विषम

सब कुछ कृष्णार्पणम्

 

भव-विभव, अधिक कि कम

शिव-अशिव, शुभाशुभम्

प्राप्त जो अगम-सुगम

सब कुछ कृष्णार्पणम्

 

सत्, असत्, अहम्, इदम्

वृत्ति उच्च या अधम

सुंदरम्, असुन्दरम्

सब कुछ कृष्णार्पणम्

 

व्यर्थ जन्म-मृत्यु-क्रम

ईति-भीति, त्रास-तम

रोग-शोक, दुख चरम

सब कुछ कृष्णार्पणम्

 

भेद बुद्धि के अलम्

जप-तप आगम-निगम

मन्त्र अब यही परम

सब कुछ कृष्णार्पणम्

 

पाँव क्यों न जायँ थम

मार्ग चल रहा स्वयम्

मुक्त, आज मुक्त

हमसब कुछ कृष्णार्पणम्

 

Jan 85