sita vanvaas

स्वप्न में सीता मिथिला आयी
पुष्प वाटिका में फिर प्रभु-दर्शन करते न अघायी

अरुण अधर कजरारे लोचन
देख किशोर रूप उमगा मन
प्रीति पुरातन जगी, पिता प्रण

सोच-सोच पछ्तायी

उभरी धनुष-भंग की झाँकी
श्याम, सलोनी मुख-छवि बाँकी
कम्पित जयमाला ग्रीवा की

ओर न गयी उठाई

पा सिन्दूर-दान, सुधि भूली
झुक कर ज्यों ही पद रज छू ली
प्रात-किरण नयनों में झूली

खगरव पड़ा सुनायी

स्वप्न में सीता मिथिला आयी
पुष्प वाटिका में फिर प्रभु-दर्शन करते न अघायी