sita vanvaas

जहाँ जी चाहे सीता जाये
बोले प्रभु लक्ष्मण से–‘अब वह मुझको मुँह न दिखाये

‘दुष्ट असुर से ठान लड़ाई
मैंने कुल की आन बचायी
पर जो पर घर में रह आयी

उसे कौन अपनाये!

‘अवध उसे जो ले जाऊँगा
अपनी हँसी न करवाऊँगा!
क्या उत्तर मैं दे पाऊँगा

यदि जग दोष लगाये!

चर्चा क्या न रहेगी छायी–
”जाने कैसे अवधि बितायी!
जो कंचन-मृग पर ललचायी

लंका उसे न भाये!”

जहाँ जी चाहे सीता जाये
बोले प्रभु लक्ष्मण से–‘अब वह मुझको मुँह न दिखाये