sita vanvaas

देखती जननी मौन रही
अंतर की पीड़ा नयनों से बनकर अश्रु बही

फिर फिर उठी हूक-सी मन में–
‘कहाँ राम-सा पति त्रिभुवन में
फिर भी बेटी ने जीवन में

नित नव व्यथा सही

‘वह क्यों इस वन में थी आयी
पिता-गेह आते सकुचायी
पति ने भी यह बात छिपायी

क्यों न मुझसे कही

‘सुनकर व्यंग-वचन धोबी का
सिर पर दे कलंक का टिका
पल में त्याग करे पत्नी का

रघुकुल रीति यही!’

देखती जननी मौन रही
अंतर की पीड़ा नयनों से बनकर अश्रु बही