रूप की धूप_Roop Ki Dhoop

  1. अस्मिता – 90 
  2. उमर खैयाम – 67 
  3. कुंवारी दृष्टि – 11 
  4. दोहा-शतदल – 87 
  5. योग-वियोग – 25 
  6. रूप-की-धूप – 60 
  7. अपूर्ण प्रेम- रात सपने में कोई आया  
  8. अँधेरा फैलता है भूमि पर 
  9. आज की रात – खूब सावन की झड़ी  
  10. कश्मीर – हर कहीं अमृतमयी धारा है  
  11. चली आओ – बिछलती चाँदनी, सिहरन हवा में 
  12. तुम – मुग्ध मन की नयी लगन  
  13. तुम हो – रात है, बयाबान है, तुम हो  
  14. पुरुरवा – कभी वसंत इधर से 
  15. प्रेरणा – चाँद की चाँदनी उतरती  
  16. बदरीनाथ के पथ पर – अज्ञात के बंधन ने बुलाया मुझको 
  17. बेढ़बजी – वाणी में बहक घोलनेवाले 
  18. मैं – मैं शून्य की रहस्यमयी सत्ता 
  19. विमुक्ति – गहन नभ की अँधेरी 
  20. वियोग – इस तरह रात बिताता हूँ मैं  
  21. सीता-वनवास – था राम को वनवास न  
  22. हरिद्वार की गंगा के किनारे – संध्या ने बिखेर दिये 
  23. हिमालय – आएगा नहीं काम