ज्यों की त्यों धर दीनी चदरिया_Jyon Ki Tyon Dhar Deeni Chadariya

  1. अब तो साध यही है मन की           
  2. गये सभी जो आये                      
  3. छोड़ दे उस पर निर्णय सारा               
  4. झेलना ही होगा संताप                           
  5. नहीं भी जग तेरी जय बोले                
  6. प्रभु का यह प्रसाद है, भाई !              
  7. भाग्य से माना कुछ न चली             
  8. भूल करके भी हूँ बड़भागी             
  9. मन रे ! क्यों तू सोच करे !               
  10. मंगलाचरण 
  11. मैं रहूँ न जब तुम पर है, झुके न स्वामी ! 
  12. मोह यदि नहीं स्वयं का छूटे          
  13. यह जग जगपति का सपना है          
  14. याद कर उस मोहक सपने को              
  15. लगन सच्ची यदि तेरे मन की           
  16. विष की व्यथा भुला दे मन से